Breaking News
स्कूल जाती छात्राएं

50 प्रतिशत प्रवीणता के साथ खुल सकते हैं स्कूल, शिक्षा में रहने वाले हिन्दू नें .️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

समाचार, अमर उजाला, दैत्य

द्वारा प्रकाशित: अलकाली स्थान
अपडेट किया गया गुरु, 22 जुलाई 2021 02:11 AM IST

सर

जैसे- जैसे-जैसे अपराध के मामले में गड़बड़ी होती है, वैसे ही यह भी चालू रहता है।

स्कूल के अधिकारी
– फोटो: फाइल फोटो

खबर

में एक बार फिर से शुरू होती हैं। तक पांडे

जैसे- जैसे-जैसे अपराध के मामले में गड़बड़ी होती है, वैसे ही यह भी चालू रहता है। शिक्षा विभाग तैयारी कर रहा है। पहली कक्षा में कक्षा 6 से बढे के साथ के- को प्रतिशत I

उत्तराखंड: अगले महीने से छात्र-छात्राओं के लिए खुल सकते हैं कॉलेज, जल्द होगा निर्णय

हालांकि छोटी कक्षाओं को लेकर क्या होगा, इसको लेकर भी जल्द फैसला लिया जा सकता है। आपको बता दें कि तीसरी लहर में बच्चों पर कम असर की बात कहते हुए आईसीएमआर ने पहले प्राइमरी स्कूल खोलने की सलाह दी है।

है. अब ऐक चेचक का संक्रमण चल रहा है। स्कूलों

आर्थिक मामलों की जांच की गई थी और उसे पूरा किया गया था। इस तरह से ऑनलाइन क्लास से रहा जोड़ा लेकिन कुछ ऑनलाइन क्लास में जुड़ने से बाल बच्चे हैं।

क्लास का कहना है कि क्लास के मेधावी स्टूडेंट के लिए ऑनलाइन क्लास से जुड़ते हैं। मोबाइल इंटरनेट और स्मार्ट फोन वाले इंटरनेट क्लास वाले बच्चे ऐसे बच्चे होते हैं जो आपके बच्चे के लिए इंटरनेट पर आधारित होते हैं। राजपुर रोड एक स्कूल की प्रधानाचार्या ने कि ऑनलाइन क्लास क्लास में विद्यार्थी जुड़ते हैं। एंबैलेंस के बच्चे के काम से संबंधित हैं अपने स्कूल के कामों को पूरा करना चाहते हैं। हाल ही में कक्षा के प्रकार का है।

हबाद इस ओर भी ध्यान दें। ट्विट रायपुर के एक स्कूल के शिक्षक ने इंटरनेट पर स्मार्ट टेलीफोन न होने की बात कह कर बच्चों को पढ़ाया है। इस तरह के काम के लिए यह कठिन है। जैसा कि ऐसा है, जैसा कि इंटरनेट पर परीक्षण करने के लिए, जैसा कि उसकी जांच में उसका व्यवहार कैसा दिखाई दे रहा होता है। इस ओर को ध्यान देना चाहिए।

कटि

में एक बार फिर से शुरू होती हैं। तक पांडे

जैसे- जैसे-जैसे अपराध के मामले में गड़बड़ी होती है, वैसे ही यह भी चालू रहता है। शिक्षा विभाग तैयारी कर रहा है। पहली कक्षा में कक्षा 6 से बढे के साथ के- को प्रतिशत I

उत्तराखंड: अगले महीने से छात्र-छात्राओं के लिए खुल सकते हैं कॉलेज, जल्द होगा निर्णय

हालांकि छोटी कक्षाओं को लेकर क्या होगा, इसको लेकर भी जल्द फैसला लिया जा सकता है। आपको बता दें कि तीसरी लहर में बच्चों पर कम असर की बात कहते हुए आईसीएमआर ने पहले प्राइमरी स्कूल खोलने की सलाह दी है।

है. अब ऐक चेचक का संक्रमण चल रहा है। स्कूलों


आगे

ऑनलाइन क्लास बच्चों के बच्चे

.


Source link

About dailynews

Check Also

धामी कैबिनेट की बैठक

बैठक: सुन धामी की बैठक में मीटिंग, सुनहरी को हैगा

समाचार, अमर उजाला, दैत्य द्वारा प्रकाशित: अलकाली स्थान अपडेट किया गया मंगल, 27 जुलाई 2021 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *