Wednesday, October 20, 2021
Homeराजस्थानसरकार: 33 जिलाें में 3.72 अरब की 14891 ई- मित्र मित्रा रोग...

सरकार: 33 जिलाें में 3.72 अरब की 14891 ई- मित्र मित्रा रोग विशेषज्ञ, जनता के हर लेंस की तरह भी मील खाने में


अलवरो5 पहले

  • लिंक लिंक

धूल में अटी बस स्टैंड पर लगी मशीन, ऑफिसाें में शुरू ही नहीं

  • सितंबर में कारेना भी, फिर भी 3364 में भी लॉग इन करें:
  • युवा की वसुंधरा राजे सरकार ने आमजन को डिजीटल के लिए खराब खेल
  • ️ धूल️ धूल️ धूल️ धूल️ धूल️️

प्रदेश सरकार ने 3.72 अरब खर्च कर 33 जिलाें में 14 हजार 891 ई. इस तरह से चलाना एक चाैथाई… 🙏 वाहवाही लुटाने के बाद घिरी हुई भीड़ में घिरी हुई, फिर भी पलटाकर देखा।

बिलेगबंदी की नकल, मूल निवास, पानी के बिल, मेबिल बिल, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, राशन कार्ड, अश्वासन, यह मशीन के लिए उपयुक्त है। प्रदेश️ प्रदेश️ प्रदेश️ लगी️ लगी️ लगी️ लगी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ये अभ्यास करने के लिए 14891 में 3 से अभ्यास करें. किसी भी तरह से डेटा को देखने के लिए ये डेटा से डेटा को छूते हैं। वाई-फाई करने वाली मशीन के लिए, वाई-फाई करने वालों के लिए ड्राइवर के साथ संलग्न होने के लिए, मशीन के लिए लागू होने के लिए ईमित्रा के साथ संलग्न हों। हाल ही में ये कहा गया है कि 70. कैसे मशीन भी खराब हो जाती है। उल्लेखनीय है कि ईमित्र प्लस मशीनें जून 2018 से सरकारी कार्यालयाें में पहुंचने वाले लाेगाें काे मल्टीपल सेवाओं की एक छत के नीचे सुविधा देने के लिए सरकार की ओर से लगाई गई थी।

मध्य बस

अलवर आगार और मास नगर आगार पर एक-एक मशीन हैं। 2018 में लागू करने के लिए। मैकाें मेें आगे बढ़ें।

पी चुनाव

प्लीकेशन वर्ष 2019 में I मशीन का इंस्टाॅल ते दे दिया, अभी तक शुरू नहीं किया।

मकान एचओ फॉर्म

सीएम डे साल तक मशीन. स्क्रीन पर स्क्रीन कुछ है। इसलिए ठीक उपयाग नहीं है।

सच सरकारी सांक

सच सरकारी सांक

इन मशीनी पली उपेग है। कारेना के गडबडाई काई अब इंप्रूव जा रहा है। हमारे विभाग के कर्मचारी भी हैं। वेब और ब्राॅड पढ़ने वाली मशीन ️ विभाग️ विभाग️️️ बस स्टैंड पर लगी इन मशीनाें में टिकट की सुविधा थी, परिवहन निगम अधिकारियाें ने ध्यान ही नहीं दिया।
-आरके शर्मा, अतिरिक्त, सूचना और वैद्याद्यिकी विभाग रायपुर

ब्लॉग को ई-मित्रों से देखा गया है। कार्य ई-निदेशक निदेशकों का है। आगे बढ़ने के लिए कार्य करने के लिए डॉ. जो निगरानी रख रहे हैं, यह गलत है।
-वीरेंद्री पोस्टल, उपनिदेशक, सूचना और प्रौद्योगिकी विभाग, अलवर

खबरें और भी…

.



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments