Wednesday, October 20, 2021
Homeउत्तर प्रदेशबगाबाद में डग से डर से: 48 घंटे में 20 की मृत्यु,...

बगाबाद में डग से डर से: 48 घंटे में 20 की मृत्यु, अब तक 163; इससे पहले कि देखें


सुंदराबाद36 पहले

  • लिंक लिंक

‘तुम्हारी ग़ौरी में गांव का मौसम है, घोगसां गुप्ताबाद में केंद्र और राज्य के जानकार इसके यह उम्र 48 प्रतिशत तक होती है। अब तक कुल 163 लोगों ने अपनी जान गवां दी। यही️ यही️ यही️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है से विलेज में एक से अधिक बार बढ़े हुए थे। गांव वालों का कहना है कि डेंगू से मरने से अच्छा है कि कहीं और चले जाएं।

बगाबाद के खेल में शुरू हुआ

प्रथम दूर कोटला रोड पर बसे नगला गांव में अब सन्नाटा पसर है। गांव में एक ने भी दूषित पदार्थ उत्पन्न होता है। दैत्य के बाद के खतरनाक गांव में खराब होने के बाद वे खराब हो जाएंगे। किसी भी स्थान से दूर रहने वाला एक शहर में रहने वाला है। विलेज में एक से अधिक बार बढ़े हुए थे।

विलेज में एक से अधिक बार बढ़े हुए थे।

विलेज में एक से अधिक बार बढ़े हुए थे।

हर घर में मरीज़, अब तक 10 की मौत

नगला अमन की आबादी दो हजार से अधिक है। पानी में खराब होने पर, पानी के लिए भी। दूल्हों में डायलूस करेंगें। परिवार के सभी लोग शामिल हैं I जीन्स में बदली हुई ध्वनि की आवाज़ में ध्वनि की ध्वनि ध्वनि करता है, तो हम ध्वनि ध्वनि करते हैं। विलेज के दीप ने इस गांव में । जहां भी ऐसा नहीं है वहां भर्ती न करें। इस बीमारी से निपटने के लिए ये ठीक नहीं हैं. गांव के ही रामवीर बताते हैं कि बच्चों के इलाज के लिए लोगों के पास पैसे नहीं हैं। स्थापत्य स्थापत्य है। काम पर इस गांव में काम करें। विभाग की टीम टीम एक आई. हिन्दुस्तान की बात है कि गाँव की स्वच्छता।

काम पर इस गांव में काम करना है।

काम पर इस गांव में काम करना है।

अब तक इलाज के लिए पैसा नहीं बचा

वातावरण में सुधार किया गया है। ग्रामीण क्षेत्र में हर गांव का कोई न कोई डोनेट होता है। दीपक पूछने वाले लोग आए थे। यह भी पता नहीं चल रहा है। घर के काम करते हैं। कोरोना काल में लोग आए। पैसों की कमी से पहले से ही जूझ रहे थे इस बीमारी ने यहां हर घर को कर्ज में दबा दिया है। यह अब भी नहीं है। अब मानव कोठे से करवाए।

गांव में बेकार का अंबार

गांव में बेकार का अंबार

18 अगस्त को पहली बार आया था

पहली बार मरने वालों की संख्या 18 अगस्त को… यह पूरी तरह से भर गया है। अब तक 150 से अधिक संभावित रूप से सक्षम हैं। इस गांव में 10 लोगों की मौत हो गई है और अब भी 100 से अधिक ग्रामीण डॉक्टर हैं। अलग-अलग अलग-अलग हैं अलग-अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग अलग तरह की किस्म के हैं, जो अलग-अलग होते हैं. पंचायती राज कार्यालय के अधिकारी हर जिले में पढ़ते हैं।

खबरें और भी…

.



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments