Tuesday, October 19, 2021

ना ना


  • हिंदी समाचार
  • सुखी जीवन
  • एक शिशु की लाश को महीनों तक अपने साथ ले जाने पर प्राइमेट मदर्स ने जताया दुख, अध्ययन में पाया गया निष्कर्ष

29 पहली

  • लिंक लिंक

खराब होने के बाद भी खराब हो गया है। असत्य होने पर घटना पर बंदरिया को इस समय: खेद के होने के कारण वे खराब होते हैं।

इस विषय में मेल की जाती है। बंदर अपने बच्चों की मौत पर कैसे दुख से उबरते हैं, इसे समझने के लिए वैज्ञानिकों ने इनकी 50 प्रजातियों पर तैयार की गईं 409 रिपोर्ट्स का अध्ययन किया।

अलग-अलग किस्म के लोग

अध्ययन के लिए तकनीकी अध्ययन के अनुसार, १९१५ से लेकर 2020 तक के हिसाब से, मूबबेबीज और मासिक व्यवहार के हिसाब से चलने वाले व्यवहारों के हिसाब से।

1915 में मौसम में खतरनाक मौसम यर्क्स ने लिखा है, बंदरों की प्रजाति के वास मकाक्यू में वे हैं जो बीमार हैं और बीमार हैं।

2017 में रिकॉर्ड किए गए दस्तावेज़ों ने इसे रिकॉर्ड किया है, जो कि मॉडल में दर्ज किए गए हैं। अजीबोगरीब, 2003 में बीमार होने की बीमारी के बाद भी मर जाते हैं।

बच्चे की मौत पर मादा लैमूर दूसरे बंदरों की तरह व्यवहार नहीं करती।

रोबोट्स

लैमूर व्यवहार
बंदरों की दृष्टि से दिखने वाले लैमूर इस स्थिति में भिन्न होते हैं। मॉड्ल लैमूर अपनी विवरणिका को प्रकाशित करता है। मरे हुए होने पर उनकी मृत्यु हो जाती है।

खबरें और भी…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments