Wednesday, October 20, 2021
Homeउत्तर प्रदेशअब अच्छी तरह से पूरा होगा और माइना का सपना: 16 ...

अब अच्छी तरह से पूरा होगा और माइना का सपना: 16 मिनाक्षी बोय – गोरखपुर घुमने का भी सपना, अब कभी आउंगी


गोरखपुर16 पहली

  • लिंक लिंक

16 को ऐक्ट अविराज और 30 कॉमपैक्ट पावर क्रिप्‍पता की बर्थ से पार्टी अब कोई नहीं होगा।

नागपुर में नागपुर की मौत के मामले में रात की मौत के मामले में मौत की मौत के मामले में ऐसा ही हुआ था जब हत्या की मौत के मामले में पत्नी की पत्नी एक पत्नी के रूप में नागपुर में रात के लिए डॉक्टर के रूप में काम कर रही थी। का गम था पर टैल करने वाले के जीतने वाला खिलाड़ी भी था। तेज, तेज तेज दौड़ने वाले तेज दौड़ने वाले। 16 को ऐविराज का और 30 एक्ट्र को पॉवर्राइटर की बर्थडे से पार्टी अब कोई नहीं होगा।

इस साल 16 को खेलना चाहिए।

इस साल 16 को खेलना चाहिए।

एक साथ पार्टी पार्टी और उसकी बर्थ
क्षी वह रियल इस्टेट के काम को कानपुर, नोएडा के अलावा गोरखपुर तक फैलाना चाहते थे। फ्रेंड्स घुंघरू के साथ चलने के लिए भी. 16 ऑब्ज़र्व को अविराज का बर्थडे है। मान्यता का बर्थडे 30 ऑब्जेक्ट को था। मीनाक्षी ने बताया कि उनके परिवार में किसी वजह से बच्चों का जन्मदिन 5 साल पूरा होने के बाद ही मनाया जाता है। . इस साल 16 को खेलना चाहिए।

एक साथ जुड़ने और बनाने के लिए।  !

एक साथ जुड़ने और बनाने के लिए। !

फंक्शन से लेकर मेहमानों की लिस्ट तैयार कर रहे थे मनीष
परिवार के साथ रहने के लिए यह एक बार ऐसा ही था। ! फंक्शन से लेकर मेहमानों की लिस्ट वे खुद ही तैयार कर रहे थे। लेकिन रोते हुए मीनाक्षी कहने लगीं कि अब मनीष का यह सपना कभी नहीं पूरा होगा। ऐसे में वे अपने बदलने में सक्षम नहीं होंगे।

क्षी  गलत नहीं है।

क्षी गलत नहीं है।

जिदंगी का कठिन तापमान गोरखपुर के 12 घंटे
इतना ही नहीं, मीनाक्षी बताती हैं कि उन्होंने सुना था कि योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर पूरी तरह बदल चुका है। अस्थाना भी आ गया है एक स्वप्न था। घर से चलने के दौरान भी प्रभाकर ने भी इसी तरह से चलने की सूचना दी थी, जो वाहवाही के साथ चलने लगे, फिर भी हम अहमदाबाद में चलने लगे, फिर भी हम… ।

मीनाक्षी रोते हुए कहती हैं कि लेकिन अब जिंदगी में कभी गोरखपुर नहीं आउंगी। यह 12 घंटे काम करने का समय है। यह कभी भी गलत नहीं होगा।

भास्कर ने इस एपिसोड को सबसे पहले और एक- एक बेबाकी से इंसान तक पहुंचाया।

भास्कर ने इस एपिसोड को सबसे पहले और एक- एक बेबाकी से इंसान तक पहुंचाया।

भास्कर को कहा थिक्स
दैनिक भास्कर को ख़राब अद्यतन। यह भी उस व्यक्ति की मौत की वजह से हुआ था। इस तरह के मामले में. योगी आदित्यनाथ के साथ भास्कर का धन्यवाद।

खबरें और भी…

.



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments